RSRराजस्थान सेवा नियम
What's New :           ☘ परीवीक्षाधीन(Probationers) ⇝परीवीक्षाधीन को अवकाश ⇝ परिवीक्षाधीन कार्मिकों द्वारा लिये जाने वाले असाधारण (अवैतनिक) अवकाश के संबंध में          ☘ अवकाश ⇝अध्ययन अवकाश (Study Leave) ⇝ Amendment of rule 112 - The Rajasthan Service (First Amendment) Rules, 2020.          ☘ अवकाश ⇝चाइल्ड केयर लीव (Child Care Leave) ⇝ Rajasthan Service (Second Amendment) Rules, 2020 or Amendment of rule 103 C          ☘ News Update ⇝RCS(MA) RULE 2013 ⇝ Amendment in Rajasthan Civil Services (Medical Attendance) Rules, 2013 in A ppendix-1: List of 'Approved Hospitals5          ☘ News Update Amendment in Rajasthan Civil Services (Medical Attendance) Rules, 2013 in A ppendix-1: List of 'Approved Hospitals5
अवकाश > पितृत्व अवकाश (Paternity Leave)
पितृत्व अवकाश -नियम 103A



पितृत्व अवकाश (नियम 103-A)

वित्त विभाग की अधिसूचना क्रमांक एफ.1(43)एफडी(ग्रुप-2)/ 83 दिनांक 6 दिसम्बर 2004 द्वारा राजस्थान सेवा नियमों में नियम 103-A जोडा गया है जिसके अनुसार सक्षम प्राधिकारी एक पुरूष राज्य कर्मचारी को 2 से कम जीवित संतान होने पर अपनी सम्पूर्ण सेवा अवधि में उसकी पत्नी की गर्भावस्था/प्रसव के दौरान एवं बाद में देखभाल करने हेतु अर्थात् प्रसव से 15 दिन पूर्व एवं प्रसव के तीन माह के भीतर 15 दिन का पितृत्व अवकाश स्वीकृत करेगा जो उसकी सम्पूर्ण सेवा अवधि में 2 बार स्वीकृत किया जायेगा। इस अवकाश का निर्धारित अवधि में उपयोग न करने पर लेप्स हो जायेगा। इस अवकाश को अवकाश लेखों में शामिल नहीं किया जायेगा लेकिन सेवा पुस्तिका में इसका इन्द्राज किया जायेगा। प्रसूति अवकाश की भांति यह अवकाश किसी अन्य प्रकार के अवकाश के साथ भी लिया जा सकता है। यह अवकाश सरकारी कर्मचारी की पत्नी के गर्भपात सहित मिसकैरेज के मामले में स्वीकृत नहीं होगा।

वित्त विभाग की अधिसूचना क्रमांक एफ.1(6)एफडी(रूल्स)/ 2011 दिनाक 15 फरवरी 2012 द्वारा राजस्थान सेवा नियम 122-A(iii) में यह जोडा गया है कि पुरूष परीवीक्षाधीन प्रशिक्षणार्थी को उपरोक्त नियम के अनुसार पितृत्व अवकाश स्वीकृत किया जायेगा। इस अवधि में वह नियत पारिश्रमिक ही प्राप्त करेगा।

Rajasthna Service Rule 103A -- Paternity Leave : A male Government servant with less than two surviving children may be granted paternity leave (maximum two times) for a period of 15 days during confinement of his wife i.e. 15 days before to three months after childbirth and if such leave is not availed of within this period it shall be treated as lapsed. During the period of such leave, the Government servant shall be paid leave salary equal to the pay drawn immediately before proceeding on leave. Paternity Leave shall not be debited against the leave account but such entry should be made in the service book separately and may be combined with any other kind of leave (as in the case of maternity leave). Such leave shall not be allowed in case of miscarrige including abortion of the Government servants wife.{Inserted vide FD Notification No.F.1(43)FD/(Gr.2)/83 dated 6.12.2004}




Rate This Page :
Site Visitors : 000000

Page Visitors : 000000