RSRराजस्थान सेवा नियम
What's New :           ☘ विशेष (Special) ⇝समूह व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा ⇝ राज्य कर्मचारियों हेतु संचालित समूह व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना वर्ष 2021-22 के सम्बन्ध में          ☘ विशेष (Special) ⇝समूह व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा ⇝ Renewal of Group Personal Accidental Insurance Scheme for the year 2020-21          ☘ परीवीक्षाधीन(Probationers) ⇝परीवीक्षाधीन को अवकाश ⇝ परिवीक्षाधीन कार्मिकों द्वारा लिये जाने वाले असाधारण (अवैतनिक) अवकाश के संबंध में          ☘ अवकाश ⇝अध्ययन अवकाश (Study Leave) ⇝ Amendment of rule 112 - The Rajasthan Service (First Amendment) Rules, 2020.          ☘ अवकाश ⇝चाइल्ड केयर लीव (Child Care Leave) ⇝ Rajasthan Service (Second Amendment) Rules, 2020 or Amendment of rule 103 C
Renewal of Group Personal Accidental Insurance Scheme for the year 2020-21



राज्य सरकार द्वारा समसंख्यक आदेश दिनांक 30.03.1995 के द्वारा समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों पर दिनांक 1 मई 1995 से समूह व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना लागू की गयी है, जिसके अन्तर्गत प्रत्येक वर्ष राज्य बीमा एवं प्रावधायी निधि विभाग के साधारण बीमा निधि कार्यालय से समूह व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा पॉलिसी हेतु अप्रेल देय मई माह के वेतन से प्रीमियम राशि की कटौती की जाती है। वित्तीय वर्ष 2021-22 की बजट घोषणा संख्या 245 में माननीय मुख्यमन्त्री महोदय के द्वारा राज्य कर्मचारियों के लिये लागू समूह व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना में देय राशि 3 लाख रूपये के वर्तमान विकल्प के साथ साथ कर्मचारियों को बढे हुये प्रीमियम के आधार पर 10 लाख, 20 लाख एवम् 30 लाख रूपये का विकल्प भी दिये जाने की घोषणा की गयी है, जिसकी पालना में पॉलिसी वर्ष 2021-22 (दिनांक 01.05.2021 से 30.04.2022 तक की अवधि) के लिये उक्त योजना के अन्तर्गत दुर्घटना बीमा का आवरण प्राप्त किये जाने हेतु अधिकारियों/कर्मचारियों को निम्न तालिका में अंकित श्रेणियों में से किसी एक श्रेणी के चयन का विकल्प उपलब्ध कराया जायेगा :-

श्रेणी प्रीमियम दर (प्रति कार्मिक)(राशि रूपये में) बीमाधन(राशि रूपये में)
1 220 3 लाख
2 700 10 लाख
3 1400 20 लाख
4 2100 30 लाख

 

for official circular go to http://finance.rajasthan.gov.in/PDFDOCS/SIPF/F-SIPF-9321-25032021.pdf




Rate This Page :
Site Visitors : 000000

Page Visitors : 000000